Believe in love – in hindi

Hello Friends, मेरा नाम Diksha है | ये मेरे पहले प्यार की कहानी है | मेरी एक दोस्त थी उसका Boy friend था | मेरी जो दोस्त थी वो और उसका Boy friend और मैं सब Movie देखने के लिए गये | उसका दोस्त भी उसके साथ आया हुआ था | उसने मुझसे बात की | मुझसे मेरा नाम पूछने लगा और भी बहुत कुछ पूछने लगा | फिर हम दोनों मिलते रहे और हमारी आपस में बातें होती रही |  हम दोनों दोस्त बन गये और फिर दोनों फ़ोन पर भी आपस में बातें करने लगे |

 

अचानक एक दिन उसने मुझे Purpose किया कि वो मुझसे प्यार करता है | लेकिन मैं किसी और को चाहती थी | मैं कभी भी इसके बारे में उससे नही बताया | तो जब उसने मुझे Purpose किया तो मैंने उसे मना कर दिया | मैंने उसे कहा कि अभी हम दोनों दोस्त हैं | फिर भी हम दोनों रोज़ फ़ोन पर बातें करते थे | मेरी दोस्त ने मुझे बोला कि तू उसे हाँ बोल दे | वो तुझसे बहुत प्यार करता है | फिर मैंने उसे हां बोल दी तो फिर वो बहुत खुश हुआ | इसी तरह फिर हमारी आपस में बात होती रही | मैंने उसे पहले ही बता दिया था कि वो शादी से पहले कुछ ना सोचे | हमारी दूर रहकर ही बात होती थी | वो बहुत ही Simple दिखाई देते थे इसलिए मैं उन्हें पसंद किया लेकिन वो अंदर से बहुत ही शक्की type के थे |

 

उसके दोस्त भी बहुत बुरे थे | वो उसे मेरी बारे में कहते थे कि तेरी Girl Friend का कोई दूसरा Boyfriend भी है | लेकिन मैं उसे बहुत समझती थी लेकिन वो नही समझता था | उसने सबके सामने मेरी insult भी की | उसके बाद मैं उससे Breakup कर लिया | फिर  वो मुझे बहुत फ़ोन करता था लेकिन मैं नही उठाती थी | फिर भी वो मुझे फ़ोन करता रहता था | फिर मैं अपना No. change कर लिया जिससे वो मुझे फ़ोन ना कर सके | फिर 4 महीने बाद उसने मुझे फ़ोन किया तो मैंने पूछा कि तुम्हे ये No. कहाँ से मिला तो उसने कहा कि ये No. मुझे Ajay ने दिया | Ajay मेरी दोस्त का Boyfriend था | मैंने उसे पूछा कि तुमने मुझे फ़ोन क्यों किया | फिर उसने मुझे शादी के लिए पूछा और कहा के मैं तेरे घर अपने Parents को लेकर शादी की बात करने आऊंगा | मैंने उसे बोला कि तुझे मेरे पास विश्वास ही नही है शादी तो दूर की बात मेरे से दुबारा फ़ोन भी मत करना | फिर मैंने दुबारा अपना No. बदल लिया | अब आप ही बतायो दोस्तो क्या मैंने ये सब सही किया या नही ………….