berojgari ka dard – hindi story

Please share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on StumbleUponDigg this

बेरोजगारी का ददॅ
दोस्तो यहा मैं आपको अपनी असली कहानी बताता हुँ। यह बात तब की है जब मैने B.Tech पास ही किया था। College मे कुछ Placement Company आई पर सिफँ 2-3 students ही Select हो सके मैने Computer मे B.Tech की थी। मै तब Job की तलाश मे था। मुझे कही काम नही मिल रहा था अगर कई मिल रहा था तो उसकी Salary बहुत कम थी।

मै हर जगह गया पर हर कोई पहला प्रश्न(Question) यही पुछता कि पहले काम कहा किया है मेरे पास इसका कोई जबाब ना होता। अगर मुझे कोई काम देगा ही नही तो मेरा Job Experience कहा से होगा।

घर मे सारे मुझ से यही पुछते कि काम कब शुरू करोगे। मम्मी पापा भी मुझे कामचोर समझने लगे उन्हे लगता था कि मै कोई काम नही करना चाहता। मेरी बडी दीदी मुझे हर किसी से बचाती वह Govt Computer Teacher है वह ही मुझे Pocket Money देती वनाॅ पापा तो खचाॅ देना दुर मुझ से कहते की घर के खचेॅ मे कुछ हिस्सा दो। पर मै कहा से देता। बडी दीदी से पैसे लेते हुए मुझे काफी शमॅ भी आती थी पर क्या करू लेने पडते थे Job Apply करने के लिए या Job Placement वालो को देने के लिए पैसे तो चाहिए ही होते है ना।

घर मे करियाने की दुकान थी। पापा तो यहा तक कह देते कि नौकरी नही मिल रही तो यहा करियाने की दुकान पर बैठ जाओ। पर मैं करियाने की दुकान मे कैसे बैठ सकता था। B.tech करने के बाद करियाने की दुकान….. ना बाबा ना। मेरे दोस्त क्या कहते ।

हर तरफ से दरवाजे बंद हो चुके थे मै घर मे अपने ऊपर वाले कमरे मे अंदर से कुडी लगा कर रोज बंद रहता कभी कभी तो घर वाले भी समझते थे कि मै बाहर गया हुँ। मै अंदर से दरवाजा बंद कर इसलिए छुप जाता था क्योकि अगर कोई घर आया मुझे देख कर मेरी नौकरी के बारे मे ना पुछ ले।

मैं बहुत ही Depression मे चला गया था हर तरफ से Negative Response मिलता अगर इस समय मेरा कोई साथी था तो वो था Google Uncle या Facebook Boy मै हर समय Job Sites ही देखता रहता और Reply करता रहता कही से भी कोई अच्छा Offer नही मिल रहा था।

फिर मैने सोचा Delhi जाने की फिर मै अपने एक Friend के पास Delhi गया जहा पर मैने Job ढुढ ली वहा पर 14000 रूपए मिलने शुरू हो गए Job Call Center की थी Job का Pressure बहुत ज्यादा था हर रोज दिमाग घुम जाता Calling करते करते। वहा Delhi मे 14,000 भी कुछ ज्यादा नही होते वहा पर भी मेरे खचाॅ मुश्किल से ही चलता।

फिर मै वापस अपने शहर आ गया वहा पर मैने एक जगह Computer की नौकरी शुरू की नौकरी Programming की ना थी यह Job Billing की थी पर वहा पर 7000 रू मिल जाते मैने सोचा कुछ देर के लिए ही चाहे यह नौकरी कर लेनी चाहिए। कुछ समय वहा मैने नौकरी कर ली पर असल मे मै बेरोजगार था क्योकि मेरा Interest तो Programming मे था मै बडा Programmer बनना चाहता था।

पर घर वालो और बाकि लोगो को तो मै काम करता नजर आना चाहिए था।

इस तरह की नौकरिया करते करते मेरी जो Programming Skills थी वो भी खत्म होती जा रही थी। पर मै हालात के आगे मजबूर था मै घर पर अपनी Programming की Practice भी ना कर पा रहा था क्योकि आप को तो Private Job की हालत तो पता ही है 12 – 12 घंटे काम वो भी इतना ज्यादा होता है कि घर आकर कोई भी सिफँ Bed को ढुढता है सोने के लिए।

अगले महीने मुझे Salary मिली मेरे हाथ मे 7000 रू थे पहले ही मैने अपनी बडी दीदी को एक Reebok की Jacket Gift की। पर क्या पता था इसके बाद मेरे पास सिफँ 3000 रूपए ही बचेगे। मै तो Sale देख कर गया था वहा पर Jacket लेने के लिए।

कहते है की जब मार पडती है तो बचाने वाला कोई नही होता अगले दिन ही मेरा Mobile Phone Bath Tub मे घिर गया और वो इस दुनीया मे ना रहा। मेरे पास 3000 रूपए और अगला पुरा महीना था और एक और मार पड गई थी Mobile की फिर मेरे पास कोई रास्ता नही था या तो मै अपनी दीदी से पैसे लेता Mobile लेने के लिए पर मैने सोचा अगर एक दो महीने बिना Mobile के भी रहा जा सकता है।

15 दिन फिर गुजर गए अब मेरे पास सिफँ 2000 रूपए ही बचे थे जिस Store मे लगा था वह बंद हो गया हमारी 15 दिन की Salary भी नही दी …….. ने। मुझे इतना गुस्सा आया की मै यहा उस को लिख नही सकता।

अगले दिन मेरे एक दोस्त ने मुझे एक Insurance Company मे Agent लगवा दिया। पहले महीने तो Boss भी मुझे ऐसे Treat करते जैसे मै उनका Boss हुँ। मुझे लगा इससे अच्छा काम तो दुनीया मे हो ही नही सकता लोग तो वैसे ही Boss और कम्पनी को बदनाम कर रहे है। पहले महीने मैने कोई Policy नही डाली फिर भी बिना कटौती मेरी तनखाह हाथ मे आ गई वो भी 20,000 रू जहा मै 100 – 100 रूपए के लिए देखता था वही सिधा 20,000 वो भी बिना कुछ ज्यादा किए मैने अगले दिन ही 16,000 रूपए का Mobile लिया बस मुझे नही पता क्या हुआ एक महीने बाद ही Boss का Behavior बदल गया Boss का कमरा Torcher Room मे बदल गया सुबह होते ही Phone आ जाता आज की Planning क्या है। शाम तक Phone की Bell का ही डर लगा रहता। अगर कभी बीच मे Bell होती तो मै जहा भी होता खडा हो कर कहता Yes Sir. मेरे अंदर का Programmer तो पहले ही मर चुका था अब की बार आत्मा भी मर रही थी।

मै इतने Pressure मे आ गया की हर समय सिर दुखता रहता एक बार मै Bike चला रहा था कि Boss का Phone आ गया मै इतना घबरा गया कि ना को मै Phone काट सकता था ना ही उठाने की हिम्मत हो रही थी इतने मे मुझे चक्कर आ गया और मेरा Accident हो गया।

फिर मैने 15 दिन Hospital मे गुजारे ठीक होने के बाद भी मेरा Hospital छोडने को दिल नही कर रहा था क्योकि वहा पर कोई कुछ कहता तो नही था वहा सच मे 15 दिन मे मैने फिर से जीना सीखा जो मेरी आत्मा मर गई थी शायद अब जाग गई थी। Hospital मे एक Magazine थी जो शायद मेरे से पहले वाले मरीज की थी उसमे एक कहानी थी जिस ने मेरी Life बदली वो भी यहा मै आप से Share करूगा।

वो कहानी एक महात्मा की थी जो जंगल मे जा रहे थे कि कुछ बंदर उन के पीछे पड गए तो वो डर कर भागने लगे वहा पर एक साधु ने अन्हे देखा को आवाज लगायी भागो मत इन का पिछा करो। महात्मा जी ने लिखा था पता नही क्या हुआ उन्होने साधु की बात मान ली और बंदरो के पीछे भागने लगे। फिर क्या चमत्कार हुआ बंदर मुड कर भागने लगे और महात्मा जी पीछे पीछे।

इस कहानी ने सच मे मुझे बहुत प्रेरित किया फिर मैने सोचा परेशानियो से भागना नही है डट कर मुकाबला करना होगा तभी यह आगे आगे भागेगी और मै पीछे पीछे।

बस तब क्या था मैने अगले दिन Job शुरू की 2 – 3 दिन Boss का Behavior ठीक था फिर उसके बाद उन्होने फिर वो ही रोज torcher करना फिर मै तो जाग चुका था मैने कहा सर जो आप कहते हो वो कैसे Possible है। क्योकि यह उन्हे भी पता था कि यह सब Possible नही है तब उन्होने कहा अगर तुम यह काम नही कर सकते तो Job छोड दो मैने वहा Table पर पडा Paper उठाया जो Blank A4 Paper था और जेब से पैन फिर मैने वहा ही Resignation Letter लिखा और Boss को पकडा दिया।

Boss – यह क्या है।

मैं सर मेरा Resignation

Boss – क्यो

मैं – सर आप ने ही तो कहा है अगर यह काम नही कर सकते तो Resignation दे दो।

Boss – नही तुम गलत समझ रहे हो। तुम बहुत कुछ कर सकते हो तुम बाकि लोगो की तरह नही हो मुझे पता है। तुम्हे तो Star of the Month Award जीतना है।

मैं सर बस अब मै यहा काम नही करूगा।

Boss – अगले महीने दिवाली आने वाली है। Bonus भी मिलेगा एक दो महीने और काम करो मै तुम्हारा Per Motion कर Area Manager बना दुगा।
( Area Manager का मतलब मुझे पता था एक ही Area के लिए 25- 30 Manager यह Insurance Company वाले Job Tag बहुत अच्छे ढुढते है।)

मैं सर Please अब नही

Boss – तुम मेरे छोटे भाई की तरह हो मै तुम्हे गलत सलाह नही दुगा तुम यह काम कर सकते हो बात रही Pressure की उस की फिकॅ ना करो यह नही बडी बात है कि तुम यहा Office मे Insult Feel करते हो। बात यह होती है कि End of the Day तुम्हारे पास कितने पैसे है।

मै. – सर अब मै जाग गया हुँ शायद सोया हुआ था अब Please आप मुझे ना रोके।

बस यह कह कर मे Office से बाहर आ गया तब मैने सोचा की महात्मा जी की बात ठीक थी की मुश्किलो से ना भागो उल्टा मुश्किलो को भगा दो अपने आप रास्ते बनेगे। जिस Boss के आगे मेरी जुवान ना खुल रही थी। आज वो मेरे लिए Please कह रहा था।

मै घर आ गया पापा को बताया कि मैने यह Job भी छोड दी है। पापा बहुत गुस्सा हुए। पर मैने कहा पापा आप फिकॅ ना करो सिफँ 1-2 दो महीने मे फिर कुछ कर दिखाऊगा। फिर मैने घर वापिस आ कर अपना Computer उठाया और फिर Programing practice शुरू की और as a Free Launcher काम शुरू किया मुझे इतना पैसा मिलता था कि मेरा गुजारा ही चल सकता था। उस दौरान पापा ने U.S.A का एक रिशता बताया पर मैने ना कर दी मैने सोचा अब अपनी आत्मा नही मारूगा पहले कुछ बनुगा फिर शादी करूगा क्योकि मै नही चाहता था कि कोई फिर यह कहे कि उसने मेरी Life बना दी है। फिर मैने Practice जारी रखी और साथ साथ Coaching भी देने लगा अब मेरा खचाॅ तो अच्छा चल रहा था पर किसी कोे यह नही बता सकता था कि मै काम क्या करता हुँ। एक साल के बाद मैने एक कम्पनी मे Apply किया हुआ था वहा से Call Letter आई मुझे Interview के लिए बुलाया गया वहा पर जो बात हुई वो ऐसे थी।

Pannel – यह आप का Resume है।

मै सर हां।

Pannel – तुम Reliable नही लगते बार बार छोड देते हो। एक कम्पनी मे 6 महीने से ज्यादा भी नही टीके क्या कारण है।
( फिर मैने सारी Story सुना दी)

Pannel- क्या बात है तुम पहले Candidate हो जो सच बोल रहा है। पर इसके सहारे Job नही दी जा सकती। तुम्हारी Specialization क्या है।

( तब मैने Pc खोला फिर उन्हे सारे Programming दिखाए जो मैने सारे साल मे किए तब वह सब बहुत खुश हुए।)

Pannel – अब अाखरी Question Join कब करोगे ।

मैं सर जब आप कहे मै तो Free हुँ आजकल

Pannel – जल्दी ही हम तुम्हे Next Round के लिए Call करेगे।

बस मेरी Success Story यहा से शुरू हो गई। यह सिफँ मेरी कहानी नही थी मेरे जैसे कई लोग इस Stage से निकले होगे। अगर यह आप भी इस Stage से निकले होगे तो Please यह Story जरूर Like करे