Drug Addiction

Please share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on StumbleUponDigg this

ये कहानी एक ऐसे लड़के की है जो एक लड़की के चक्कर में पागल हो चुका था और अपने माता पिता से आये दिन झूठ बोलता और अपनी जिद्द मनवाता था | उसके माता पिता उसे एक डॉ. बनाना चाहते थे | पिता किसान होने के बावजूद उसे पढ़ाने की इच्छा रखते थे | और माँ दिन रात उनके साथ खेतों में मजदूरी में लगी रहती थी | पर बेटे को पढ़ाने की इच्छा कभी कम नहीं हुई | कुछ समय बीता और उस लड़के ने 12 वी की परीक्षा में 96 प्रतिशत नंबर आये | यू तो वह अपने गाँव का बहुत होशियार और समझदार लडका था | पर किसी को क्या पता था कि वह ऐसी गलती कर बैठेगा | कॉलेज में एडमिशन के लिए पिता ने बैंक से एजुकेशन लोन उठा कर उसका दाखिला दिल्ली के एक बड़े कॉलेज में करा दिया | वहाँ का वातावरण बिलकुल अलग था | लड़का स्वभाव से काफी सीधा था | दुनिया दारी की जैसे उसे कोई समझ ही नहीं थी | वहाँ के गलत बच्चो की संगत में आकर एक लड़की के जाल में फस गया | उस लड़की के जाल को वह समझ नहीं पाया और उसके कहने पर घर वालों से नाजायज़ मांगे करने लगा जैसे नयी बाइक , नया मेहंगा फ़ोन और खर्चो के लिए हर महीने बीस हज़ार रूपए | पर ये पैसे किसी अच्छी जगह नहीं खर्च होते थे | ये तो ड्रग्स की गन्दी लत के लिए थे | माता पिता  ना जाने कहाँ से इंतज़ाम करके भेज देते थे पर लड़के को उसकी कदर नहीं थी |

नशे की लत ने उस लडको को मरने पर मजबूर कर दिया था क्यूंकि माँ बाप अब समय पर पैसे नहीं भेज पा रहे थे | आज वो लड़का इस दुनिया में नहीं है | और माँ बाप अपनी गलती पर पछतावा करते है की क्यूं उन्होंने समय रहते उससे नहीं पूछा की वो इतने पैसो का क्या करता था |

लड़के के मरने के बाद उसके होस्टल रूम से उसका लिखा एक ख़त मिला जिसमे लिखा था “माँ – बाबू जी मुझे माफ़ कर देना “