Family Trust

Please share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on StumbleUponDigg this

एक भारतीय परिवार का हर व्यक्ति एक दुसरे पर विश्वास करता तभी तो बे झिझक किसी को भी कोई कह दिया करते है | उस परिवार के हर व्यक्ति का फ़र्ज़ बनता है कि वे परिवार के विश्वास को बना कर रखे | यदि एक बार विश्वास टूट जाता है तो वह दुबारा स्थापित करना मुश्किल होता है |

ऐसा ही एक किस्सा मेरे साथ भी हुआ था जिसके कारण मैंने अपने परिवार वालों का विश्वास खो दिया है और उसे मैं आज तक दुबारा वापस नहीं पा सकी |

मैं सुनैना ( बदला हुआ नाम ) B.Com दुसरे सत्र की छात्रा हूँ | आज से 4 महीने पहले मैंने अपने माँ से अपनी एक सहेली के घर पर पढने जाने की और रात को रुक कर परीक्षा की तैयारी करने की इजाज़त मांगी | मेरी माँ ने इस बात की इजाज़त दादा जी से मांगने के लिए कहा | मुझे पता था दादा जी मना कर देंगे पर फिर भी मैंने उनसे पूछ लिया |

मेरे काफी समझाने के बाद उन्होंने मुझे जाने की इजाज़त दे दी और साथ में कहा कि उनका विश्वास है कि मैं कोई भी गलत काम नहीं करुँगी |

सच बात तो ये थी के हमने रात को अपने दोस्तों के साथ क्लब जाने की योजना बनाई थी | क्लब पहुचने के बाद वहां रेड पड़ गयी और हमें पुलिस पकड कर ले गयी | यह बात जब मेरे घर वालों को पता चली तो उन्होंने मुझे वहां से छुडा तो लिया पर मैंने उनका विश्वास हमेशा के लिए खो दिया है | मैं अपनी गलती के बारे में सोचकर आज बहुत पछताती हूँ |