Friendship also lost and love too - Love story in hindi

Friendship also lost and love too – Love story in hindi

Hello दोस्तो, मेरा नाम Lovish है | मैं Yamunanagar में रहता हूँ | मैं आपको अपनी Story सुनाता हूँ | हमारे Area में एक लड़की रहती थी और वो मुझे रोज़ मिलती थी | उसका नाम Sanjana था | धीरे-धीरे मुझसे उसे प्यार हो गया | धीरे-धीरे हमारी आपस में बात होने लगी | मुझे उससे प्यार हो गया | हमारी काफी बातें होती थी | काफी देर ऐसे ही चलता रहा लेकिन मुझे उसे कुछ कहने की हिम्मत नही हुई | मेरा एक Jatin नाम का Friend है और उसका घर भी उसके घर के पास ही था |वो मेरा बहुत ही खास दोस्त था | Jatin ने एक दिन मुझे बताया कि मैं उस लड़की को प्यार करता हूँ और मेरी उस लड़की से बात करवा दे | मुझे लगता है कि वो भी मुझे पसंद करती है | मैंने उसे बोला कि ठीक है लेकिन मुझे बहुत दुख हुआ | लेकिन फिर मैंने सोचा कि चलो Jatin के लिए ही मैं उसे भूल जाता हूँ | कुछ दिन मैं उसे Jatin के बारे में बोला तो वो भी उसको ही चाहती थी | मैं Jatin और Sanjana के ख़त एक दुसरे को पहुंचता था | कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा |

फिर एक दिन Jatin ने Sanjana के घर ख़त फेंक दिया | फिर उसे Sanjana के भाई ने पकड़ लिया | उसके भाई और पापा ने मिलकर उन दोनों को बहुत मारा | मुझे यह बात बाद में पता चली और मुझे यह सब जानकर बहुत दुःख हुआ | फिर मालूम पड़ा कि Sanjana के घर उसकी शादी करने जा रहे हैं | Jatin ने Sanjana घर से भाग जाने के लिए बोला लेकिन उसने उसे मना कर दिया | फिर अचानक ही Jatin तबियत बिगड़ गयी और उसे ईलाज के लिए Mumbai जाना पड़ा | वहां पड़ Jatin की Death गयी | Sanjana उसे बहुत प्यार करती थी | वो इस बात को सहन नही कर सकी | वो अचानक की एक अपाहज़ की तरह हो गयी | वो किसी से बात नही करती और Jatin के जाने का डीआरएस उसे बहुत सता रहा था | दोस्तो अब मुझे बताओ कि मुझे मेरा प्यार भी नही मिला और ना ही मेरा दोस्त | अब मुझे ये बताओ कि मैं क्या करूं |