larai maa baap ki

मै यहा पर अापकी love stories पड चुका हुँ मेरी भी एक दर्द भरी कहानाी है पर यह कोई प्रेमी या प्रेमीका की नही है मेरा सारा जीवन दर्द से गुजरा है जो मै यहा पर लिखने जा कहा हुँ मेरी भी एक दर्द भरी कहानी है जो मेरे बचपन से शुरु हो जाती है जब मै लगभग सिफँ 10 साल का था मेरे नाना जी एक बहुत अमीर आदमी थे मेरे मम्मी पापा की आपस मे लडाई चल रही थी मेरे मम्मी पापा अलग अलग रहने लगे मै और मेरी मम्मी नाना जी के पास रहने लगे मै सारा जीवन बिना पापा के रहा मेरा भी बाकी लडको की तरह दिल करता कि मै भी अपने पापा के साथ खेलु पर मेरी किस्मत मे यह नही था इसलिए मै अकेला कमरे मे ही बंद रहता अगर कई बार मै अपनी मम्मी को कहता कि मेरा अपने पापा से मिलने का दिल करता है तो मेरी मम्मी मुझे चुप करवा देती मै भी चुप कर के बैठ जाता जब भी मै कभी छुप कर अपने पापा से मिलने जाता तो अगर मै पकडा जाता ती मम्मी और नाना जी दुखी होते जब भी मै अपने पापा से मिलने जाता तो पापा मुझे मम्मी के बारे मे गलत गलत बाते कहते दोनो ने कभी भी मेरा मन समझने की कोशिश नही की मै अपना सारा जीवन इस तरह दुख मे ही रहा मै अपनी कहानी यहा पर इस लिख रहा हुँ ताकि जब भी अापकी शादी हो तो आप भी अपने बच्चो की feelings समझ सके अपने झगडो मे कभी भी बच्चो का जीवन खराब न करे ताकि कोई और अपनी जिंदगी मे अपने मां बाप दोनो के प्यार को न तरसता रहे|