main aur mere jija ji

यह मेरी सच्ची क़हानी है। मुझे लगता है। यह सिफँ मेरी नही सारे समाज़ के लडकियो क़े लिय आम बात है ज़हा पर हमे हर ज़गह सिफँ उपयोग क़ी वस्तु समझा ज़ाता है। मेरा नाम A*** है। मे और मेरी N**** दीदी एक़ बार अपनी Cousin क़ी Marriage मे ग़ए ज़हा पर मेरी मुलाक़ात मेरे जीजा जी से हुई। हम दोनो आपस मे काफी हंसी मज़ाक किया सब लोग बहुत खुश थे।रात का समय था सभी लोग सोने ज़ा रहे थे सभी सो गये मै और दीदी हम Bed पर थे और जीजा जी मेरे पीछे ज़मीन पर विस्तर पर थे।

 

रात क़ो सभी सो जाते है तब मेरे जीजा जी ने कभी मुझे हाथ लगाना शुरू कर दिया। पहले मै दुर होती गई कुछ देर बाद तो हद हो गई उन्होने मुझे रात को Kiss क़रने की कोशिश की फिर मै ग़ुस्से मे आ क़र उठ कर बैठ गई। इस बात ने मुझे सारी रात सोने नही दिया अब मै यह पुछती हुँ क्या हमारे समाज मै लडकियो को सिफँ उपयोग क़ी वस्तु समझा ज़ाता है। जब मेने यह बात ममी क़ो बताई तो उन्होने क़हा A*** इस बात को यहा पर ही खत्म क़र दो वरना दीदी की Maqrried life पर असर पडेगा फिर मै अपनी ममी क़े कहने पर यहा क़ुछ नही क़हा। पर क़्या हम लडकियो की जगह है।