Meri Bewakoofi

Please share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on StumbleUponDigg this

मैं रजनी ..एक बार मैं अपनी सबसे खास सहेली के घर गयी | वहाँ जाकर मुझे बहुत ख़ुशी का अनुभव हो रहा था | उसके घर वालों ने भी मेरा बहुत आदर सत्कार किया | हमने बहुत देर बैठकर बातें भी की | फिर हमने साथ बैठकर खाना खाया और खूब मस्ती की | बातों बातों में मैंने देखा की उसके घर एक मछली घर ( aquarium ) भी था | फिर क्या उसे देख मैं उसके पास जाने के लिए बहुत व्याकुल हो गयी |

मैं मछली घर के पास गयी और पानी में हाथ डाल डाल कर खेलने लगी | मछलियों का मुलायम पंखो से हाथ को छुकर गुजरना एक अलग ही अनुभव था | मुझे अपनी प्रकृति पर गर्व हो रहा था की कैसे कैसे जीव जंतु यहाँ पलते और बढ़ते हैं | सच मछली एक बहुत ही सुंदर और प्यारा प्राणी होता है |

अचानक मेरी नज़र वहां पड़े हुए मच्छी भोजन (fish pedigiri ) पर पड़ी | मैंने ख़ुशी ख़ुशी में बहुत सारी pedigiri उसमे डाल दी | ऐसा करते मुझे किसी ने देखा नहीं था | फिर अचानक मेरे घर से फ़ोन आ गया और मैं अपने घर वापस आ गयी |

अगले ही दिन जब मैंने अपने अपनी सहेली से फ़ोन पर बात की तो वह बहुत उदास थी | मैंने उसकी उदासी का कारण पूछा तो उसने बताया की सारी मछलियां मर गयी है | उस दिन से मुझे अपने किये पर बहुत पछतावा होता है की मैंने ऐसा क्यू किया जबकि मुझे पता था की ज्यादा भोजन खाके मछलिय मर जाती हैं इसलिए उन्हें नियमित भोजन दिया जाता है |