meri sachi love story hindi

Please share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on StumbleUponDigg this

मै हिमाचल का रहने वाला हुँ। मेरा नाम प्रेम(बदला हुआ नाम) है। हमारे हिमाचल की एक ही खास बात है कि यहा के लोग न किसी को घोखा दे सकते है न ही किसी का दिल तोड सकते है। मैने अपनी B.A पुरी करने के बाद यहा Chandigarh मे एक Private computer center मे दाखिला ले लिया मेरी मुलाकात एक बहुत सुन्दर लडकी रीया (बदला हुआ नाम) से हुई। उसके आने के बाद ही मेरी Life मे बहुत बदलाव आया वो मेरी पहली Girlfriend थी। वो मेरी Life मे कैसे आई पता ही न चला हम दोनो बहुत खुश थे रोज घुमने जाते देर रात को भी फ़िल्म देखने जाना आदि आम बाते थी मेरी लाइफ मे यह पहली लडकी थी इसलिए मै उससे बहुत खुश था हम दोनो एक दुसरे के बिना एक पल भी नही रह सकते थे। तीन महीने बाद मैने वहा पर एक Insurance Company मे job शुरू क़र दी वहा पर एक लडकी मेरी manager थी मै अपना काम बहुत लग़न से करता था।इसलिए मेरा रीया से फोन पर बात करना कुछ कम हो गया पर मेरा घ्यान हर समय रीया को खुश करने के लिए ही रहता मै जल्दी अच्चा set होकर रीया से शादी करना चाहता था। मेरी अपनी कम्पनी मे Sales बहुत ज्यादा थी। कम्पनी ने मुझे star agent of month का पुरस्कार भी दिया और घुमने के लिए bangkok जाने के लिए Airtickets भी दिए जो लडकी मेरी manager थी मेरे कारण उसका कम्पनी मे reputation भी बड गया था उसे एक permotion और मेरे साथ bangkok का trip मिला था मै रीया के साथ जाना चाहता था पर मेरे पास अभी इसते पैसे नही थे कि हम इक्ठठे जा सकते। मै और मेरी manager घुमने के लिए चले गाए। वहा पर हम दोनो हर समय साथ ही रहते थे। इसलिए हमारा एक दुसरे के करीब आना स्वाभीक ही था। मै हर रोज रीया को फोन करता तो वो कभी कभी मुझे रोक देती। मै भी उसके साहमने फोन नही कर पाता। वो भी मुझ से प्यार करने लग़ी थी। अब मै बहुत ही बडी दुविधा मे था कि किस और जाऊ एक और मेरा career है तो दुसरी और रीया मै रीया का भी दिल नही तोडना चाहता था पर भगवान ने मेरी परेशानी का हल कर दिया रीया के घर वाले उसकी कही और शादी करना चाहते थे और रीया भी अपने घर वालो की मरजी के बिना कई और शादी नही करना चाहती थी।
इसलिए उसने अपने घर वालो की मरजी से शादी कर ली पर शायद वो मुझ से सच्चा प्यार करती थी। और मेरी और उसकी आँखो मे आसु थे जब हम आखरी बार मिले थे। पर अब मै और मेरी manager के बीच मे affairs शुरू हो गया मै सच मे उससे सच्चा प्यार करने लगा था पर प्यार तो उसके लिए खेल था वह तो चाहती थी मै सिफँ उसके लिए sales बढाऊ ताकि उसकी कम्पनी मे position अच्छी हो सके मै एक महीने के लिए बिमार हो गया उस महीने मेरी sales कुछ कम हो गई थी तब जब मै वापिस एक महीने बाद काम पर गया तब मुझे पता चला कि हमारी manager का affairs किसी और से चल रहा है। जो उसके लिए ज्यादा sales लाता। मेरा प्यार से विश्वास उठ गया था तब मुझे सम्भाला दिव्या नाम की लडकी ने जो एक बहुत बडे घर से थी। दिल्ली मे उनकी 100 करोड से ज्यादा की property थी और वो अकेली थी। जब मै उसकी insurance करने उसके घर गया तब सच मे मुझे अपने आप मे शरम आयी। उनका फरश बहुत ही चमक रहा था और मेरे गन्दे जुते से उनका फरश खराब हो गया था मैने कहा sorry madam मै इसे अभी साफ कर देता हुँ। वह बहुत अच्छी थी उन्होने कहा फिक॔ मत करो हमारे नौकर इसे साफ कर देगे तब मै उनकी insurance कर के वापिस आफिस आया उस महीने मेरी sales सब से ज्यादा थी। तब मेरी manager ने फिर मेरे पास आना चाहा पर मै ऐसा लडका नही था। मैने उनसे दुरी बना ली।अगले दिन मुझे पता चला कि दिव्या के कुछ documents कम है। मैने उससे बात की आप के कुछ documents कम रह गए है। मै दोवारा उनके घर गया फिर कुछ documents लेकर वापिस आया तब उस दिन मुझे पता चला कि उसकी आखो मे मेरे लिए प्यार था। मै उस लडकी से शादी नही कर सकता था। क्योकि हमारा और उनका economical level में फक॔ बहुत ज्यादा था। तब दिव्या ने मुझे रोज फोन करना शुरू कर दिया मै चाहता था कि दिव्या का दिल भी न तोडा जाए और वो मुझ से दुर हो जाए पर प्यार के आगे किस की चलती है। मेरा और दिव्या का प्यार शुरू हो गया हम बडे बडे restaurants मे घुमने जाते पर हर बार दिव्या ही bill की payments करती क्योकि कभी कभी payment मेरी Monthly salary से भी ज्यादा होती। सच मे मै दिव्या से बहुत प्यार करने लगा था हम दोनो ने एक दुसरे बिना न जिने की कसमे भी खा ली थी पर जिस बात का मुझे डर था वही हुआ दिव्या के पापा हमारी शादी के लिए तैयार नही थे दिव्या ने कहा चलो मुझे कही दुर भगा कर ले जाओ वहा पर हम दोनो शादी कर लेगे पर भाग जाना मेरे खुन मे नही मे नही था इसलिए मेरे देखते देखते दिव्या की शादी हो गई। इस बार मेरा दिल कम टुटा क्योकि शायद मे इसका आदि हो चुका था मुझे शराब की लत लग चुकी थी मै बहुत टुट चुका था मै उसके बिना नही रह सकता था शायद उसका गम भुलाने के लिए मैने शराब का सहारा लिया पर फिर भी मेरा गम कम नही हो रहा था। मैने वो कम्पनी छोड दी और अब मै काम करने के लिए Mumbai चला गया।ज़हा मैने mobile कम्पनी मे marketing की job शुरू की वहा पर मेरी salary भी बहुत अच्छी थी तब मेरी life मे एक और लडकी आई उसका नाम पूजा(बदला हुआ नाम) था। पूजा मेरी junior थी उसकी sales performance बहुत खराब थी शायद इसलिए वो मेरे साथ नजदिकिया बनाने की कोशिश करती रहती पर क्या पता था हम दोनो एक दुसरे के बहुत करीब आ ज़ाएगे। इस बार मेरे साथ कोई tragedy हो इससे पहले ही मैने पूजा के साथ शादी कर ली। अब हम दोनो एक ही कम्पनी मे काम करते है और बहुत खुश है। अब मै और पूजा एक दुसरे को बहुत प्यार करते है। और हम एक दुसरे के बिना नही रह सकते। अब मै इस बात से बहुत डरता हुँ कि पूजा न मुझ से दुर चली जाए।