Pyar Kabhi Nhi Marta Love story – in Hindi

Please share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on StumbleUponDigg this

Hello दोस्तो, मेरा नाम Avinash है और ये मेरी बहुत ही दर्द भरी Story है | मैं अपनी Story start करता हूं | मैं अपनी Family के साथ America में रहता हूं | मेरी ये Story 3 साल पहले की है | जब मैं 18 साल का था | मेरे माता-पिता Indian हैं | वो हर साल मेरे दादा जी से मिलने Jaipur, Rajasthan में जाते है लेकिन मैं कभी उनके साथ नही गया | लेकिन इस साल मैंने सोचा कि मैं अपना 18 जन्मदिन जयपुर, Rajasthan में मनाऊ | मैंने Jaipur के बारे में सुना था | मैंने अपने दोस्तों से बोला कि मैं India जा रहा हु | तो वो भी मेरे साथ आए हम लोग Sunday 7 बजे Jaipur पहुंचे | जब मैं वहां पहुंचा तो दादा जी का घर देखकर परेशान हो गया | वो बहुत बड़ा हवेलियों जैसा था | Dinner का समय था | मैंने खाना खाने चला गया | मैं Kitchen से जा रहा था कि वहां मैंने एक लड़की को देखा | मुझे उसे देखते ही प्यार हो गया | वो बहुत ही शर्मीली और खुबसुरत थी | मैं उसकी तरफ जा ही रहा था कि वो मेरी तरफ पलती | उसके हाथ में हलवे की कटोरी थी | उसने मेरे पे हलवा घिरा दिया | मेरी बहन ने उसे डांटा | फिर जल्दी से उसने मेरे कपड़े साफ किये |
फिर वो चली गयी | मैंने अपनी बहन से उसका नाम पूछा | वो राजपूत थी | उसका नाम Kanika था | मैं तो उसपे पागल हो चूका था | साहंसी होने की वजह से हम उनके Area में नही जा सकते थे | लेकिन मैं हिम्मत करके अपने दोस्तों के साथ उसके मोहल्ले में पहुंच गया | मैं दरवाजे से अंदर चला गया और वो सामने खड़ी थी | उसने मुझे देखा और जल्दी से कमरे के अंदर धकेल लिया और दरवाजा बंद कर लिया | उसने फूल उठाकर आधा मुझे दिया और आधा अपने पास रख लिया और जहाँ से चले जाने को कहा | मैं समझ गया कि वो भी मुझसे प्यार करती है | मैं वहां से चला गया | अगले दिन उसका भाई और बाप उसे लेकर हमारे घर आए और मेरे दादा जी और पिता जी को बोला कि अगले बार वो मोहल्ले में गया तो वो उसे मार देंगे | मेरा कुछ सामान वहां रह गया था इसलिए उनको शक हुआ और वो वहां आए थे | मैं उसके एक झलक के लिए बेताब था | मेरे दोस्तों से मेरी ये हालत नही देखी जा रही थी | वो लोग बोल रहें थे कि लड़की को उठाकर ले आते हैं और मैं तयार हो गया | मैंने दादा जी की बन्दूक उठाई और हम गाड़ी पर गये | हमने किसी भी तरह से Kanika को वहां से उठा लिया | वो लोगों को पता चल गया और वो हमारा पीछा करने लगे | हमारी गाड़ी एक पेड़ से टकरा गयी और बंद हो गयी और फिर हम लोग जंगल में भाग गये और वो लोग हमारे घर पहुंच गये और मेरी इसी हरकत की वजह से उन्होंने दादाजी का कत्ल कर दिया | मेरे दोस्त किसी तरह शाम को घर वापस आ गये | वहां एक राजपूत दादाजी का खास आदमी था उसने मेरे दोस्तों और माता-पिता को Delhi की बस में बिठाकर वहां से भेज दिया| मैं और Kanika जंगल में भटकते रहे | हम लोग नजदीक का Bus Stand जो Delhi की तरफ जाता हो ढूंढने लगे | सामने से कुछ लोग आये और मैंने उनकी तरफ बंदूक को साधा और पीछे से धीरे से आकर मेरे सिर पर मारा और मैं वहां गिर गया | वो मुझे ओर मारने लगे | उन्होंने Kanika को भी मारा | उनमें से एक Kanika के पिता भी थे | फिर वो मुझे बांधकर मरने लगे | मेरे सिर पर बहुत खून निकल रहा था | Kanika बेहोश हो कर गिरी हुई थी फिर Kanika को होश आया और मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसे Kiss किया ये देखकर उसके पिता ने Kanika पर Petrol डाला और उसे जिन्दा जला दिया | वो मेरी आंखों के सामने तड़पती रही लेकिन मुझसे कुछ ना हो सका | फिर वो मेरी तरफ गिर गयी और उसने आखरी बार मुझे I love You बोला और उसकी Death हो गयी | किसी ने मुझे ज़ोर से सिर पर मारा और फिर कपड़े में डालकर ज़ोर-ज़ोर से पीटा | मैं बेहोश पड़ा रहा वो लोगों ने समझा कि मर गया और मुझे फ़ेंक कर चले गये | जब मुझे होश आया तो मैं Delhi के किसी हस्पताल में था और बहुत रो रहा था | मेरे दिमाग में चोट लग चुकी थी और खून बहुत बह रहा था | मैं अभी 4 महीने पहले Bed से उठा हूं और अभी मुझे सपने में Kanika दिखाई देती है | लोग कहते है कि मैं पागल हो चूका हूं | पिता जी मुझे Doctor के पास लेकर जाते हैं | अब मेरी जिन्दगी सिर्फ Kanika की यादों में ही डूबी हुई है | मुझे लगता है कि Kanika मुझे कुछ कहना चाहती है | लेकिन मुझे कुछ भी समझ में नही आता |
Please मेरे और मेरे प्यार के लिए प्राथना करना