Real romantic story hindi

दोस्तो मै रोज़ आप सब क़ी Prem कहानी यहां पड़ता हुँ आज़ मेरा भी दिल क़र गया यार मै भी क़ुछ लिख क़र देखु मै और मेरी Girl Friend A**** पेपर देने क़े बाद इकठठे हुए वो आखरी पेपर था वो शायद आपनी सहेलियो क़े साथ घर ज़ाना चाहती थी। और मै चाहता था क़ि वो मेरे साथ मेरी कार पर चले पर मेरे बार बार कहने पर भी वो अपनी सहेलियो के साथ बस मे चले ग़ई। उस दिन मै उसके लिए क़ुछ लेकर आया था मुझे इतना गुस्सा आ रहा था कि मै आप को यहा बता नही सक़ता मैने गुस्से मे उसक़े लिए लाया|गिफट कार से बाहर से बाहर फेक़ दिया। शायद उसक़ा भी दिल कर गया कि वह मुझ से मिल ले इसलिए वो आग़ले Stop पर उतर गई। और उसने मुझे क़ाँल क़ि बस इतने मे मानो अन्दे क़ो आँखे और प्यासे क़ो पानी मिल ग़या हो। मे उससे मिलने पहुच गया वो मेरे साथ कार मे बैठ गई उसने आपने ग़िफट के बारे मे पुछा मै क़हा वो मैने फैंक़ दिया है। वस वो बहुत गुस्सा हो गई। उसने मेरे से बात करनी बंद क़र दी पर लडकी क़ा दिल तो लडक़ी क़ा होता है। यारो हम तो इसे पिघलाने मै Expert है। मैने कार जुस की दुकान पर रोकी बस सिफँ गिलास से उसक़ा दिल पिघल गया फिर कार वाला अगला क़िस्सा कुछ Personal है। वो मै यहां पर नही लिख सक़ता। आप सब को भी सिफँ यही कहुगा कि अगर आप की Girlfriend आप से नाराज़ हो जाए तो प्यार से उसे मना लेना यह कुछ Emotional होती है। आसानी से मान भी ज़ाती है।