The Unforgettable – Must Read

Please share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on StumbleUponDigg this

मै तो उडना चाहती थी खुले आसमान से बाते क़रना चाहती थी। पर क़िसमत क़ो तो क़ुछ और ही मनजुर था। मेरी छोटी अायु मे ही शादी हो गई। पता ही न चला क़ि जिदंगी किस ओर जा रही है। फिर मेरे घर दो Baby ने Birth लिया। उन मे मै अपनी छवी देख़ा करती थी। बहुत खुबसूरत होने के कारण हर कोई मेरे से दोसती करना चाहता था।

मै अपनी अधुरी पढाई पुरी करना चाहती थी। मैने College मै दाख़ला ले लिया। तब एक़ नई ज़िदंगी की शुरुआत हो गई तब मेरे College मे एक़ लडक़ा आया मुझे वो अच्छा लग़ने लगा एक़ दिन मेने उस के Phone पर Call की और उस ने मुझे पहचान लिया और बातो ही बातो मे दोसती फिर प्यार में बदल गई। मैं उसे बहुत चाहती हूँ।उ स के साथ बातें करके में अपने आप को पुरा समझती हूँ। अब मुझे ऐसा लगता है। कि कोई तो है जो मेरे लिए जिता है।
मैं उसे से बिना बात किए नहीं रह सकती।आजकल कई और लड़कियां भी होगी जिनकी जिन्दगी मेरे ही जैसेी होगी।अब मैं अपने पति और बच्चॊ को नहीं छोड़ सकती और उस से बात करना भी नहीं छोड़ सकती।मुझे नहीं पता मैं ठिक कर रही हूँ या गलत भगवान जाने।अगर आपको लगता है में ठीक कर रही हूँ तो मेरी इस कहानी को Please Shear करें।