Untold Love Story - Super sad true love story

Untold Love Story – Super sad true love story

Hello फ्रेंड्स, मैं हूँ आकांशा और मैं अल्लाहाबाद की रहने वाली हूँ। अल्लाहाबाद में मैं अपनी दादी के साथ रहती हूँ। दादी माँ, मैं और मेरी माँ हम तीनो अकेले ही रहते हैं। मेरी माँ मुझे आगे पढ़ना चाहती थी इसलिए मेरा स्कूल ख़तम हो जाने के बाद माँ ने मुझे आगे पड़ने के लिए विदेश भेज दिया। विदेश में मैं बिलकुल अकेली थी। फिर एक दिन मेरी मुलाकात योगेश से हुई। योगेश भी विदेश में पढ़ने ही आया था। जब हमारी पढाई पूरी हो गयी तब मैं अल्लाहाबाद दादी माँ के पास रहने आ गयी, लेकिन योगेश अभी विदेश ही था। विदेश में उसने नोकरी करनी शुरू कर दी।

मैं अल्लाहाबाद तो आ गयी थी मगर मेरा मन विदेश में ही रह गया। दिन-रात मुझे योगेश की याद सताती। मगर न तो मेरे पास उसका फ़ोन नंबर था और न कोई और साधन। फिर एक दिन योगेश मुझे मिलने के लिए अल्लाहाबाद आया। मैं उसको देखकर बिलकुल हैरान थी। उसने अल्लाहाबाद आकर मुझसे अपने प्यार का इज़हार किया। तब मैं भी उसे कहे बिना न रह पायी। योगेश ने मुझसे वादा किया की हमारा प्यार कभी भी ख़तम बही होगा। उसने मुझसे कहा “मै अपने पैरो पर खड़े हो के, independent होक तुम्हारे पास ज़रूर ाऊँगा और उस दिन मई तुम्हारा हाथ तुम्हारी माँ और दादी माँ से मांगूंगा। मैंने उसकी हर एक बात पर विशवास किया।

ओस तरह दो साल बीत गए। मैंने माँ के कहने पर भी किसी के भी साथ शादी के लिए हाँ नहीं कहा और न ही मैंने घर में योगेश के बारे में किसी को बताया क्योंकि मुझे योगेश और उसकी बातों पर पूरा भरोसा था। इस तरह एक साल और बीत गया लेकिन योगेश नहीं आया। फिर एक दिन मुझे पता लगा की योगेश ने तो 2 साल पहले ही विदेश में PR लेने के लिए विदेश की लड़की से ही शादी कर ली और आज वो अपनी ज़िन्दगी में बहुत खुश है। ये सुनकर मुझे योगेश से ज़्यादा खुद पर गुस्सा आया और मैं खुद को कोसने लगी की मैंने कितनी बड़ी गलती की एक धोखेबाज़ इंसान पर विशवास करके।

मुझे योगेश से ज़्यादा खुद से गिल्ला है क्योंकि मेरी वजह से मेरी दादी माँ भी मेरी शादी बिना देखे परलोक चली गयी। काश मैंने अपनी माँ की बात मान ली होती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *