Sach me Pyar Love story – in Hindi

Hello दोस्तो, मैं आपको अपने प्यार की कहानी बताता हूं | मैंने जब 10th कि तप मैं छुट्टियों में अपनी मासी के घर गया वहां मैं एक लड़की को देखा तो वहीं मैं उससे प्यार कर बैठा लेकिन मैं कुछ बोल नही पाया और कुछ दिन बाद मैंने एक लड़की को बताया और उस लड़की ने जाकर उसको बोल दिया | लेकिन उसने ये Accept नही किया उसने बोला कि जो प्यार करता है उसे सामने आकर बताना चाहिए | उसने बोला कि 2 दिन बाद मुझे मंदिर में मिलना और जो भी बोलना है वहां आकर बोलना | मैं मन्दिर गया और वहां वो आई थी | हम एक-दुसरे से आँखों से बात कर रहें थे क्योंकि वहां हमें सभी देख रहें थे | मेरा उसके लिए प्यार इतना बढ़ गया कि मैं उसको चिठ्ठी पर लिखकर उस लड़की के हाथ भेजता था | लेकिन वो उसे नही देती थी | मेरा उसके लिए प्यार इतना बढ़ गया कि उसे देखे बिना नींद नही आती थी | जब शाम होती थी तो इसके घर के आस-पास इसकी आवाज़ सुनने के लिए जाता था | एक दिन मैंने उसे चुपके से ये सब बोल दिया | बाद में मैं छुट्टियां बता कर वापस चला गया और मैंने उसे घर का फ़ोन दे आया लेकिन उसने मुझे फ़ोन नही किया मैं उसे बहुत याद करके रोता था एक दिन मैं चुपके से इसके घर गया और इसकी मम्मी का फ़ोन चुरा लाया | इसके बाद मैं उसी Message किया कि मुझे फ़ोन करना और फ़ोन Switch off हो गया और मैं रोता रहा और फिर इसका फ़ोन आया और बोला कि तुम कौन हो और मेरे फ़ोन में Balance नही है और तुम फ़ोन करो | मैंने फ़ोन किया और वो बोली कि मेरे को किसी और से प्यार हो गया है | मैं उस समय पागल सा हो गया था और उसे बोला कि आज नही कभी तुम मुझे याद करोगी | उसने फिर किसी लड़के के साथ शादी कर ली और फिर मैंने सुना कि उसका एक Baby भी हुआ | फिर मुझे एक दूसरी लड़की के साथ प्यार हो गया वो मुझे बहुत प्यार करती थी और हम दोनों एक-दुसरे के बिना एक पल भी नही रह सकते थे | हम दोनों एक-दुसरे से सारी बातें Share करते थे | कुछ दिन बाद हम दोनों की शादी हो गयी और हम दोनों बहुत ख़ुशी से जी रहें है |